Thursday, April 22, 2021

रानीखेत में स्थानीय भ्रमण – (Local Sight Seen in Ranikhet)

शनिवार, 03 मार्च 2018 

इस यात्रा वृतांत को शुरू से पढने के लिए यहाँ क्लिक करें !

यात्रा के पिछले लेख में आप रानीखेत स्थित कुमाऊँ रेजीमेंट के संग्रहालय का भ्रमण कर चुके है अब आगे, संग्रहालय से निकलकर हम रानीखेत में स्थानीय भ्रमण के लिए चल पड़े ! स्थानीय भ्रमण की कड़ी में हमारा पहला पड़ाव मनकामेश्वर मंदिर था जो संग्रहालय से थोड़ी दूरी पर था, 10 मिनट बाद हम मंदिर के सामने जाकर रुके ! गाड़ी से उतरकर हम मंदिर के प्रवेश द्वार के सामने पहुंचे, अंदर जाते ही एक गलियारा सीधा मंदिर के मुख्य भवन तक जाता है जबकि कुछ अन्य गलियारे मंदिर परिसर में मौजूद अन्य दर्शनीय स्थलों तक जाते है ! प्रवेश द्वार से भवन तक जाने वाले मुख्य मार्ग को शेड से ढका गया है ताकि यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं का गर्मी और बारिश से बचाव हो सके ! प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मंदिर का निर्माण कुमाऊँ रेजीमेंट द्वारा 1978 में करवाया गया था ! ये मंदिर माँ काली, भगवान शिव और राधा-कृष्ण को समर्पित है, हालांकि, मंदिर में अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाएं भी स्थापित की गई है ! भक्तों के लिए मंदिर के द्वार सुबह 5 बजे खुल जाते है जो दोपहर 12 बजे बंद होते है और ये द्वार शाम को फिर से 4 बजे खुलकर रात को 9 बजे बंद होते है ! ये मंदिर यहाँ के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थलों में आता है, स्थानीय लोगों के अलावा रानीखेत में तैनात सैन्य अधिकारी भी सपरिवार यहाँ समय-2 पर आते रहते है !

Mankameshwar Temple
रानीखेत का मनकामेश्वर मंदिर